विश्वकर्मा पुजा का महत्व क्या है

विश्वकर्मा पुजा का महत्व क्या है

विश्वकर्मा पुजा का महत्व

साधारण business करणे वाला व्यक्ति हो या बडा बिसनेस करने वाला या रोजगार वाला व्यक्ति ज्यादा तर के लीये विश्वकर्मा पुजा बोहत ज्यादा महत्व पूर्ण होती है।विश्वकर्मा पुजा का महत्व और क्यु मनाई जाती है विश्वकर्मा पुजा इसके बारे मे in hindi site पे हम आपको पुरी जानकारी प्रदान करेंगे।

विश्वकर्मा पुजा का धार्मिक महत्व

भगवान विश्वकर्मा महाराज की पुजा की विधी तिथी के अनुसार 2020 मे 16 से लेके 17 सितंबर तक है, तिथी की अनुसार इस शुभ समय पर विश्वकर्मा पुजा करणे से व्यापार मे बढोत्रि और रोजगार मे तरक्की होती है ऐसी मान्यता है भगवान विश्वकर्मा महाराज को इस पृथ्वी का डिजाइनर या आधुनिक दुनिया की भाषा मे कहा जाय तो इंजीनियर कहा जाता है।

ब्रम्हाने जब इस दुनिया की रचना की तब कैसे कहा क्या रहेगा या किसका डिजाइन कैसा होगा इसका ढाचा बनाने मे भगवान ब्रम्हाजी की सहाय्यता भगवान विश्वकर्मा ने की आप उन्हे दुनिया का पहिला इंजीनियर कह सकते है।

मतलब इस सृष्टी की जो भी नेसर्गिक चिजे जिस हिसाब से बनी है उसके एक मात्र रचेता भगवान विश्वकर्मा है। इसी लीये किसी भी कार्य को शुरू करणे से पहले काम मे बाधा ना आये और काम शांति पूर्ण तरिके से पुरा हो जाय इसलीये भी ऊनकी आराधना की जाती है।

विश्वकर्मा पुजा करणे का शुभ मुहूर्त

अगर विश्वकर्मा पुजा के शुभ मुहूर्त को देखा जाय तो ये 16 सितंबर सबेरे 07.55 बजे से लेके 11.38 तक का है मगर बहोत से ऐसे भी लोग है जो दुसरे दिन यांनी 17 सितंबर गले शुभ मुहूर्त पर भी पुजा करते है।

विश्वकर्मा वैदिक मंत्र

मंत्र के उच्चारण एकदम स्पष्ट हो ये ध्यान रखे पुजा की सामग्री भगवान विश्वकर्मा को अर्पण करने के बाद साफ मन से इस मंत्र का उच्चारण करे ओम आधार शक्तीपे नम: ओम कुमयी नम: ओम अनंन्तम नम: ओम पृथिव्ये नम:।

> गणेश चतुर्थी क्यों मनाते है

विश्वकर्मा पुस्तक मे ऊनके जन्म से जुडी अनोखी बाते

पौराणिक धार्मिक पुस्तको के अनुसार, भगवान ब्रह्माजी के एक पुत्र थे जिनका नाम था धर्म और धर्म के सात पुत्र थे जिनमे सातवे पुत्र का नाम था वास्तुदेव

वास्तुदेव शिल्पशास्त्र के अच्छे जाणकार थे उनका शादी अंगिरसी नाम की कन्या से ​हुई जिससे भगवान विश्वकर्मा का जन्म हुआ ऊनके पिता के भाती और उन्ही के वजह से भगवान विश्वकर्मा भी वास्तुकला और शिल्पकला के महान विद्वान बने।

हम आशा करते है की हम विश्वकर्मा पुजा का धार्मिक महत्व अच्छे तरिके से और साधारण शब्दो मे आपको समझा पाये इस जानकारी को अपने दोस्तो से अपने प्रिय जनो से Facebook, Twitter और WhatsApp पर जरूर share करे धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here